दोस्तों टुडे हम बात करेंगे कम्युनिटी का हिंदी मतलव के बारे में सम्पूर्ण इनफार्मेशन जो आपके प्रत्येक कांसेप्ट को क्लियर करके वर्डो के यूज़ के साथ प्रभाव को भिन्न पहलुओ के अंतर्गत बतलायेंगे जिन्हें जानकर अपने दिमाग में अच्छी तरह बैठा सकते है. Means of Community in Hindi में समझने हेतु यह आर्टिकल आखिर तक जरुर से पढ़े, तो जल्दी से आईये शुरू करते है.

Means of Community in Hindi with Tips :


Means of community in hindi -

Noun 
  •   ऐक्य 
  •   जाति 
  •   प्रजा 
  •   बिरादरी
  •   मठ 
  •   लोग
  •   संप्रदाय 
  •   समाज 

मेरे बिचार से आपने अब तक ऊपर लिखे सभी वर्डो के शोर्ट अर्थो को शोर्ट में पढ़ा होगा और अपनी जरूरत के अनुसार भिन्न जगहों पर यूज़ भी कर लिया होगा. अब मेरा एक प्रश्न आपसे ये है कि इन छोटे अर्थो के वर्ड के पीछे की स्टोरी या कहे इनका रिलेशन बाहरी तौर पर जो भी बनता है क्या आप उन्हें बेहतर रूप में जान चूके या नही ? अभी तक कुछ कंफ्यूजन आपके माइंड में है ? 

तो शायद आप में से बहुतो के द्वारा इसका आंसर केवल नही होगा और इसका कारण सभी पर्सन के अपने बीचार और मानसिक स्थिति होती है जिसके चलते वह जीवन यापन करता और चीजो के प्रति अपनी धारनाये के साथ सोच को लेकर जुड़ते है. इन्ही सब कारणों को लेकर हमारे जरिये यह पोस्ट लिखा गया जिसे अंत तक पढ़ने पर दिमाग में इन वर्डो के साथ एक कहानी बनेगी जो काफी मददगार सावित होगी, तो आईये जल्दी से आगे बड़कर शुरुआत करते है.



Means of Community in Hindi Full Uses :


प्रत्येक वर्ड को विस्तृत रूप में जानिये -

- जाति, जैसा कि फ्रेंड्स आप सभी इस बात को अच्छी तरह जानते और समझते ही होंगे कि भारत देश में धर्म और जाति, समाज की भिन्नता अधिक पायी जाती है और आप सभी इसी में से किसी के अंतर्गत आते ही होंगे. जब आप पैदा होते है तब ही आपकी जाति तय कर दी जाती है. 

बहुत समय पहले की बात करे तब उस टाइम पर लोगो की मानसिकता इनको लेकर ज्यादा होती थी जो कि भेदभाव के रूप में भी देखा जाता था. जिस प्रकार यहाँ कई जातिया मौजूद है उसी प्रकार हर एक की मानसिकता भिन्न रूप से देखने को मिलती है.

- प्रजा, जब भी आप इस वर्ड को रीड करते होंगे आपके दिमाग में राजा और प्रजा को लेकर उस समय की बात याद कराता होगा जब राजाओ का शासन भारत की धरती पर हुआ करता था. थोड़ा विस्तार से जाने तो पाते है कि बहुत पहले किसी विशेष स्थान की जनसँख्या या कहे लोग वहां अपने राजा को चुनकर उनके अधीन कार्य करते हुए जीवन यापन करते थे. 

इसी बीच राजा जनता की भलाई के लिए सारी व्यवस्था करता था. आज जिस प्रकार एक प्रधानमंत्री पूरे देश को चलाता है उसी प्रकार उस टाइम राजा अपने क्षेत्र में ऐसी ही छवि के रूप में कार्य करने और शासन करते हुए जीवन जीते थे. राजा के सारे फैसले प्रजा की भलाई के लिए जाते थे.

- हिस्सेदारी, दोस्तों यह जिंदगी के आपसी मामलो के अंतर्गत आता है इसे समझते हुए हर एक परिवार में वंश जैसे - जैसे आगे बड़ता जाता वैसे ही संपत्ति का बटवारा पुत्रो में होता है. आज सभी इन बातो को आस - पास सोसाइटी में देखने के अलावा खुद भी अनुभव किया होगा. यह फैसले आसानी से हो जाते है तो कई बार बड़े मुद्दे परिवार, व्यापार आदि अन्य प्रकार की डील के बीच खड़े होते देखे होंगे.

इनके इफ़ेक्ट को जाने -

- जाति, ऊपर हमारे द्वारा इस वर्ड को पूर्ण विस्तार से समझाया लेकिन इनके अच्छे - बूरे प्रभावों को भी थोड़ा जान लेते है जैसा कि ऊपर बताया जा चूका है कि भारत भिन्नताये का देश है जिसमे जातिगत, भाषा, खानपान, व्यवहार और रहन - सहन, बिचार आदि स्तर पर अलग होते है. अब जब इतनी ज्यादा भिन्नता होने से ये बात तो पक्की है कि कुछ न कुछ मतभेद किसी बात के चलते देखने को मिलते है जिसके परिणाम गलत प्रभाव देश और समाज के अन्य लोगो पर दिखाई पड़ते है.

सभी वर्डो के यूज़ को जानिये -

- जाति, देश में कई जातिगत और धर्म के व्यक्तियों द्वारा इसे समझा जा सकता है.
- प्रजा, राजा के अधीन कार्य कराने और रहने वाले लोगो को इसके अंतर्गत देखा जाता है.
- हिस्सेदारी, परिवार की संपत्ति के बटवारे को इसके अंतर्गत लेकर समझा जाता है.

मुझे विश्वास है कि आपने यह What is the Means of Community in Hindi Full Explain पोस्ट पूरा पढ़ा होगा और अपने मन के सभी कंफ्यूजन को दूर करने में इसकी मदद ली होगी. जल्दी से अपने अनुभव हमारे साथ शेयर करे, ताकि नए अपडेट पोस्ट आप तक पहुँच सके. 

Post a Comment

Previous Post Next Post